Sunday, December 4, 2022
Home जीवन शैली तंत्र दिवस पर पूरे देश में निकालेंगे तिरंगा यात्रा: अभाविप

तंत्र दिवस पर पूरे देश में निकालेंगे तिरंगा यात्रा: अभाविप

तंत्र दिवस पर पूरे देश में निकालेंगे तिरंगा यात्रा: अभाविप

ज्ञात अज्ञात हुतात्माओं के सर्वेक्षण से होगा भारत के सेनानियों का सम्मान: अभाविप

1 लाख गांव और 1 करोड़ सदस्यों तक पहुंचेगा अभाविप

शिक्षा का भारतीयकरण आवश्यक, योग और गीता को करना चाहिए सम्मिलित: अभाविप

परिसर गतिविधियों में खेल बने प्राथमिकता: अभाविप

अभाविप का 3 दिवसीय 67 वां राष्ट्रीय अधिवेशन जबलपुर में 26 दिसम्बर को संपन्न हुआ। अधिवेशन स्थल को रानी दुर्गावती नगर के नाम से रखा गया था एवं अधिवेशन स्थल पर 1965 के युद्ध में  वीरगति प्राप्त कैप्टेन रमन बक्शी के नाम से प्रदर्शनी भी बनाई गई थी।कुल 665 प्रतिभागी प्रत्यक्ष रूप से अधिवेशन में उपस्थित रहे जिसमें नेपाल और बांग्लादेश से भी प्रतिभागी सम्मिलित थे। अधिवेशन में आभासीय माध्यम से भी 2168 स्क्रीन के द्वारा 70763 विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया। अधिवेशन के उद्घाटन एवं प्रा. यशवंतराव केलकर युवा पुरस्कार के वितरण में मुख्य अतिथि के रूप में नोबल शांति पुरस्कार प्राप्तकर्ता श्री कैलाश सत्यार्थी उपस्थित रहे। इस वर्ष का प्रा. यशवंत राव केलकर युवा पुरस्कार तमिलनाडु के श्री कार्तिकेयन गणेशन को दिव्यांग जन को सशक्त बनाने हेतु दिया गया। अधिवेशन के दूसरे दिन जबलपुर महानगर में शोभा यात्रा भी निकली गयी जिसमें देश भर से आये प्रतिभागियों ने अपने सांस्कृतिक वेश भूषा में भाग लिया।

राष्ट्रीय कार्यकारिणी की विशेष आमंत्रित सदस्य प्रोफेसर उमा श्रीवास्तव ने बताया की राष्ट्रीय परिषद् में शिक्षा की पवित्रता को बचाने हेतु शिक्षा समुदाय आगे आए, वर्तमान परिदृश्य, परिसर गतिविधियों में खेल बने प्राथमिकता एवं जनजातीय गौरव दिवस ये 4 अहम प्रस्ताव भी पारित हुए। प्रस्तावों में महाविद्यालयों को सुरक्षा के साथ जल्द खोलना, आभासीय माध्यम से शिक्षा के कारण छात्रों के बहुआयामी विकास में आई रुकावट को दूर करना, जनसँख्या नियंत्रण कानून लाना एवं शिक्षा के भारतीयकरण करने जैसी प्रमुख मांगों पर मंथन हुआ। देश और दुनिया में बढ़ रहे इस्लामिक आतंकवाद एवं दिल्ली में लायी गयी नई शराब नीति पर भी अधिवेशन प्रस्ताव में निंदा की गयी। प्रस्ताव में अभाविप ने भारत द्वारा COP – 26 में लिए गया 2070 तक नेट जीरो कार्बन एम्मिशन को सार्थक करने के लिए भी युवाओं से आह्वाहन किया एवं केंद्र सरकार के द्वारा महिलाओं ईए विवाह की उम्र को 18 से बढाकर 21 करने का स्वागत भी किया गया।

प्रांत मिडिया संयोजक कौशलेंद्र नाथ तिवारी ने कहा की अभाविप के अधिवेशन में खेलों को प्रोत्साहन हेतु भी एक प्रस्ताव पारित हुआ जिसमें खेल के बजट को बढ़ाने, CSR का 5 प्रतिशत खेलों को देने, खेल ओलम्पियाड का आयोजन करने एवं स्पोर्ट्स कोटा को बढ़ाने जैसी प्रमुख मांगो को सम्मिलित किया गया। अधिवेशन से पूर्व संपन्न हुई राष्ट्रीय कार्यकारी परिषद् में जनजातीय गौरव दिवस की घोषणा का स्वागत करते हुए एक अभिनन्दन प्रस्ताव भी पारित किया गया।

प्रान्त अध्यक्षा प्रोफेसर सुषमा पाण्डेय ने बताया की स्वाधीनता के अमृत वर्ष में चल रहे कार्यक्रमों की श्रृंखला में अभाविप ने 26 जनवरी को इकाई स्तर पर देश भर में तिरंगा रैली करने का निर्णय भी किया है। अभविप अगले साल अपने भी 75वे वर्ष में प्रवेश करेगा और इसी निमित्त संगठनात्मक विस्तार करने हेतु देश भर में 1500 विस्तारक निकलने की योजना भी बनायी गयी है। साथ ही संपर्क को बढ़ाते हुए अगले वर्ष के लिए अभाविप ने 1 लाख गांव तक कार्य विस्तार, 50 हज़ार महाविद्यालय में संपर्क एवं 1 करोड़ सदस्य बनाने का लक्ष्य भी लिया है।

अभाविप गोरक्ष प्रांत के प्रान्त मंत्री सौरभ गौड़ ने प्रेस वार्ता को सम्बोधित करते हुए कहा कि “अभाविप के 67वे राष्ट्रीय अधिवेशन में अहम निर्णय लिए गए हैं। पारित किये गए प्रस्तावों के कार्यान्वयन के लिए देश भर की इकाइयां काम करेंगी। स्वाधीनता के अमृत वर्ष को अभाविप पूरे हर्ष और उल्लास से मना रही है और आने वाले गणतंत्र दिवस पर भी हम देश भर के युवाओं को साथ लेकर राष्ट्रभाव की भावना को संचारित करेंगे। अभाविप विश्व के सबसे बड़े छात्र संगठन के रूप में उभर के आया है और हम अपने स्थापना के 75वे वर्ष में नए आयाम स्थापित करेंगे।”

प्रेस वार्ता मे प्रमुख रूप से प्रोफेसर उमा श्रीवास्तव, प्रोफेसर सुषमा पाण्डेय, सौरभ गौड़, कौशलेंद्र नाथ तिवारी, नवनीत शर्मा, प्रशांत त्रिपाठी, अचिन्त्य पाण्डेय, अनुभव शाही, अद्भुत स्वरूप उपस्थित रहे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read